Sat. May 25th, 2024

Maruti WagonR Flex Fuel

Maruti WagonR Flex Fuel: आने वाले कुछ सालों में बहुत बड़ा बदलाव आने वाला है अब हम सामान्य रूप से गन्ने का रस इस्तेमाल कर भारत में गाड़ियों को चला पाएंगे ।मारुति जल्द ही अपनी एक रचनात्मक कार को भारत में लॉन्च करने वाली है मारुति की पहली गाड़ी एक कंपैक्ट गाड़ी होने वाली है, जिसे 2025 तक भारतीय बाजार में लॉन्च किए जाने की संभावना है।
मारुति हमेशा से ही कुछ बेहतर करने का प्रयास करती रहती है इस बार भारतीय बाजार में बढ़ रहे पेट्रोल और डीजल के दाम से अपने ग्राहकों को मुक्ति दिलाने के लिए इस प्रकार के ईंधन का निर्माण कर रही है, जोकि पेट्रोल से सस्ती भी हो और पेट्रोल के बराबर पावर भी जनरेट करती हो। ऐसा करने वाली मारुति पहली कार निर्माता कंपनी नहीं है। पुराने जमाने में भी इस तकनीक का प्रयोग कुछ गाड़ियों में किया जाता था।

क्या है फ्लैक्स fuel: Maruti WagonR Flex Fuel

फ्लेक्स-फ्यूल एक वैकल्पिक ईंधन है जो सामान्य पेट्रोल को मेथेनॉल या इथैनॉल (Methanol or Ethanol) के साथ मिलाकर बनाया जाता है। इसे इंजन द्वारा मिश्रित ईंधन के रूप में उपयोग किया जाता है। इसके विपरीत, सीएनजी ईंधन प्रणालियाँ पेट्रोल और सीएनजी को अलग-अलग टैंक में संग्रहित करती हैं, ईथैनॉल की पेट्रोल के साथ अनुपात को पूर्ण पेट्रोल से पूर्ण ईथैनॉल तक हर कोई संयंत्रित कर सकता है, और सब कुछ इन बीच हो सकता है। सबसे आम फ्लेक्स-फ्यूल में 85% ईथैनॉल और 15% पेट्रोल का उपयोग होता है, लेकिन इस अनुपात को स्थिर रखने के लिए इसे अधिक पेट्रोल सहित बदला जा सकता है ताकि ठंडे क्षेत्रों में ठंडे प्रारंभ समस्याओं से बचा जा सके।

Maruti WagonR Flex Fuel Launch Date और उपयोगिता

Maruti WagonR Flex Fuel: मारुति फ़्लेक्स फ़्यूल गाड़ी देश के स्थानीय स्तर पर तैयार की जाएगी। इससे कच्चे तेलों के आयात में कमी आएगी और ग्रीन पर्यावरण को बढ़ावा मिलेगा। फ़्लेक्स फ़्यूल गाड़ी किसी भी 20 प्रतिशत (E20) और 85 प्रतिशत (E85) इथेनॉल-पेट्रोल (Ethanol-Petrol) ईंधन से चलने में सक्षम है।
कंपनी ने इशारा दिया है, कि साल 2025 में मारुति सुज़ुकी पहली ईवी पेश करेगी, वहीं साल 2030 तक कंपनी का लक्ष्य देश में 15 प्रतिशत बैटरी इलेक्ट्रिक वीइकल्स, 25 प्रतिशत हाइब्रिड, 60 प्रतिशत आईसीई, सीएनजी, इथेनॉल-पावर व बायोगैस कार्स की बिक्री करना है। इसके लिए कंपनी ने बायोगैस प्रोजेक्ट के लिए भारत सरकार और बनाड डेयरी से गठबंधन किया है।

क्या कहा नितिन गडकरी जी ने : Flex Fuel

फ्लेक्स फ्यूल कार का प्रयोग भारतीय बाजार में करने के लिए हमारे देश के केंद्रीय परिवहन मंत्री, श्री नितिन गडकरी जी ने भी इस तकनीकी को अपनाने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया है। उन्होंने इस मौके पर मंच में फ्लेक्स फ्यूल इंजन का प्रयोग करने के लिए लोगों को जोड़ दिया है। और इसके साथ ही हम आत्मनिर्भर भारत की ओर और तेजी से आगे बढ़ सकेगा। हमें महंगे पेट्रोल विदेश से आयात करने की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी।
इस तकनीक के माध्यम से पेट्रोल कारें 20% से 85% एथेनॉल के बीच चल सकेगी। इस पर मारुति सुजुकी की तरफ से भी प्रतिक्रिया आई है, कंपनी का कहना है कि हमारे पास पूरी तरह से यह तकनीक तैयार है अब केवल बुनियादी ढांचे की आवश्कता है ।

–Maruti WagonR Flex Fuel:–

निष्कर्ष : (Conclusion)

मारुति ने भारतीय बाजार में लॉन्च करने का इरादा किया है फ्लेक्स फ्यूल गाड़ी, जिसमें गन्ने के रस का इस्तेमाल होगा। इस नई तकनीक के फलस्वरूप, गाड़ियां पेट्रोल और डीजल की जरूरत नहीं करेंगी, बल्कि मेथेनॉल या इथैनॉल के साथ मिलाकर चलाई जाएंगी। मारुति का लक्ष्य है 2025 तक इस नई तकनीक की एक कॉम्पैक्ट गाड़ी को लॉन्च करना, जो पेट्रोल की तुलना में सस्ती और बराबरी की शक्ति प्रदान करे। नितिन गडकरी ने भी इसे सराहा और बताया कि इससे भारत आत्मनिर्भर हो सकता है और अपनी ऊर्जा स्वायत्तता में सुधार हो सकता है।

जाने और खबर :-

Toyota Fortuner 2024 : क्या बदलाव कर सकती है Toyota अपने अगले Latest Launch में

One thought on “New Maruti WagonR Flex Fuel: अब पेट्रोल और डीजल की ज़रूरत ही नहीं, नईं तकनीक के कारण गन्ने के रस से दौड़ेगी गाडियां”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *